Tuesday, 5 July 2016

Cute vaali Baate ❤



Cute vaali Baate ❤

.
He: kya kar rahi ho
She: Tution classes le rahi hu
.
He: Mujhe bhi pdha do na
She: Aa jao padha deti hu kya pdhoge
.
He: Dekho mujhe Physics nahi aati bilkul bhi par ha
tum kaisi dikhti ho kitni pyari ho ye mai acche se
explain kar sakta hun
She: Or kon sa subject nahi aata
.
He: Chemistry bhi nahi aati but hum dono agar puri
life sath rahenge to pakka mai hum dono ke bich ki
chemistry ko solid rakhunga
She: Buddhu or ??
.
He: Mujhe History ki dates yad nahi hoti par tum
kab meri life mai aai, First tym mere sath smile ki,
kab meri lover bani sari dates yad hai or kabhi nahi
bhoolunga
She: Heehee or kya ni aata ??
.
He: Mujhe hindi bolna aaj tak perfect nahi aata but
tumhe dekh ke mujhe tumse pyar hai kahna
humesha perfect aa jata hai
She: Accha ji or ??
.
He: Mujhe na maths bilkul bhi nahi aata but mujhe
pata hai ki tumhari khushiya kaise increase karni hai
or gum kaise decrease karne hai
She: Awww Or ?
.
He: Bio to mere sar ke upar se nikal jata hai but
mai kabhi tumhe hurt krunga to tumhe kaha kaise
hurt hoga mujhe pta hai isliye mai kabhi hurt ni
krunga
She: Haahaa love you Or?
.
He: Or last ki mujhe na english pdhni bilkul bhi nahi
aati but aapki aankhe mai acche se padh sakta hu
mai aapko bahut pyar jo karta hu in aankho mai
kabhi aansu nahi dunga
.
She: Are buddhu iska matlb aapko sab bhut acche
se aata hai i love you na
he: I love you babu to inna sarra ❤


Sooo cutee na....

Guru

Saturday, 2 July 2016

वो मुझे मेहंदी लगे हाथ दिखा कर रोई, मैं किसी और .........................




















वो मुझे मेहंदी लगे हाथ दिखा कर रोई,

मैं किसी और की हूँ बस इतना बता के रोई!

♡♡♡♡♡♡♡♡♡♡

शायद उम्र भर की जुदाई का ख्याल आया था उसे,

वो मुझे पास अपने बैठा के रोई !
♡♡♡♡♡♡♡♡♡♡
कभी कहती थी की मैं न जी पाऊँगी बिन तुम्हारे,
और आज ये बात दोहरा के रोई!
♡♡♡♡♡♡♡♡♡♡
मुझसे ज्यादा बिछड़ने का ग़म था उसे,
वक़्त-ए -रुखसत वो मुझे सीने से लगा के रोई!
♡♡♡♡♡♡♡♡♡♡
मैं बेक़सूर हूँ कुदरत का फैसला है ये,
लिपट कर मुझे बस इतना बता के रोई।
♡♡♡♡♡♡♡♡♡♡
मुझ पर दुःख का पहाड़ एक और टूटा,
जब मेरे सामने मेरे ख़त जल के रोई।
♡♡♡♡♡♡♡♡♡♡
मैं तन्हा सा खुद में सिमट के रह गया,
जब वो पुराने किस्से सुना के रोई।
♡♡♡♡♡♡♡♡♡♡
मेरी नफ़रत और अदावत पिघल गई एक पल में,
वो वेबफ़ा थी तो क्यों मुझे रुला के रोई।
♡♡♡♡♡♡♡♡♡
सब गिले-शिकबे मेरे एक पल में बदल गए,
झील सी आँखों में जब आँसू के रोई।
♡♡♡♡♡♡♡♡♡
कैसे उसकी मोहब्बत पर शक़ करूँ मैं,
भरी महफ़िल में वो मुझे गले लगा के रोई !... :'(
♡♡♡♡♡♡♡♡♡
>>
Post पसन्द आई तो शेयर करे


     BY.Guru

SUCCESS WAY IN YOUR LIFE BY GURU



         SUCCESS WAY IN YOUR LIFE




1.Aaj Baadlo Ne Fir Sajish Ki
Jaha Mera Gar Tha Wahi Baarish ki
Aagar Falaq Ko Zid Hai Bijliya Girane Ki
To Hame BHi Zid Hai Wahi Par Aashiya Banane Ki--

2.Na Puchho Ke Meri Manjil Kaha Hai
Abhi To Safar Ka Irada Kiya Hai
Na Haroonga Hosla Umar Bhar
Ye Mene Kisi se nahi khud se vadha kiya hai---



3.Hawa Mein Taash Ka Ghar Nahi Bante
Rone Se Bigde Muqadar Nahi Bante
Duniya Jitne Ka Hosla Rakh -e- Dost
Ek Jeet Se Koi Sikandar Nahi Bante





4.In Nafrat Ki Divaro Ko Todega Kon
Agar Digaj Nahi Karenge To Pehl Karega Kon
Is Duniya Mein Bahot Raste Hai Chalne Ki Liye
Agar tu Sach Ke Raste Na Chala to Tujhe Yaad Karega Kon
Har Azadi Se Pehle Marna Padta Hai
Agar Tu Marne Se Dar Gya To Tujhe Azad Karvavega Kon –





5.Life is not a parking space , It is a racing track ...
Keep on moving ..,no matter when ,where and how
you start but reach your goal and
make a new record in this world.





6.Success is not a matter of handling the best
and winning the race;
success is the matter of handling the worst
and finishing the race..



7.The moment you think of giving up,
think of the reason why you held for so long.
"DO OR DIE" is an old saying,"DO IT BEFORE
YOU DIE" is the latest..





8.Har pal pe tera hi naam hoga,
Tere har kadam pe dunia ka salam hoga
Mushikilo ka samna himmat se karna,
Dekhna ek din waqt bhi tera gulam hoga





9.Zindagi ki asli udan abhi baaki hai,
Hamare iradon ka imtihaan abhi baaki hai,
Abhi to naapi hai kuch muthi bhar zamin,
Aage to saara Aaasman abhi baaki hai



10.Pal pal tarse the us pal ke liye,
Magar Yeh Pal aaya bhi to kuch pal ke liye ,
Socha tha use zindagi ka ek haseen pal bana lenge ,
Par wo pal ruka bhi to bas ek pal ke liye.



11.Kissa vo likho jo mashhur ho jay,
Dost vo na banao jo door ho jay,
Mohabbat na karna jindgi main,
Kuch essa kar jao ke log tumse mohhabat karne ko majbur
ho jay. . .



12.Zindgi Zakhmo Se Bhari Hai
Waqt Ko Malham Banana Sikh Lo,
Harna To Hai Maut Ke Samne
Filhal Zindgi Se Jitna Sikh Lo.



13.Yeh mat soch ki zimdagi mein kitne pal hain
Yeh soch ki har pal mein kitni zindagi hai



14.Jindagi me sada haste rahon,
Hasna jindagi ki jarurat hai,
Jindagi jiyo to is andaj me ki,
Hame dekhkar sabko lage ki Jindagi kitni khobsoorat hai



15.Zindgi Naam Hai Manzil Ki Taraf Jane Ka,
Zindgi Nam Hai Masti Mein Sada Gane Ka,


16.Mout Aaram Se So Jane Ki Badnami Hai,
Zindgi Naam Hai Toofano Se Takrane Ka.



17.Kare koshish agar insaan to kya kya nahi milta .
Vo sar utha ke to dekhe jise rasta nahi milta.
Bhale hi dhoop ho kaate ho raho me par chalna to padta hi hai .
Kyoki kisi payase ko ghar baithe dariya nahi

milta.




18.if u born as poor ,its not ur mistake .
but if u die as poor thats ur mistake!



19.Little faith says"U can do it"
Big faith says"U'll do it"
But Great faith says"It is done!"
nothing's impossible wen u believe in ursel



20.Rone se taqdir badalti nahi
Waqt se pahle raat dalti nahi
Dusaron ki KAMYABI lagti hai aasan
Magar KAMYABI raste mein padi milti nahi
21.Arrey mil bhi jaye KAMYABI aasani se agar
To essi KAMYABI kabhi pachati nahi
Arrey KAMYABI chahiye to paani mein aag lagani padegi
Magar ye bhi such hai ki paani mein aag aasani se lagti nahi
Arrey hath pe hath rakhane se pahle soch zara
Yun hi beithe-beithe to kismat kabhi sawarti nahi.



22.Har Khushi,Khushi Mange Aapse,
Har Zindgi,Zindgi Mange Aapse.
Ujala Hi Ujala Ho Muqaddar Me Aapke,Itna Ho Ki..
SURAJ Bhi Roshni Mange Aapse.



23.MUSKILEN DIL K IRADE AZMATI HAIN,
THOKREN INSAN KO CHALNA SIKHATI
GIRKE MAT HARNA TUM,
YAHI THOKREN HAME CHALNA SIKHATI HAI



24.Jindgi Har Kadam Par Ek Naya Mukam Deti
Hai Musibat Me Gir Kar Sambhalna
Phir Honslo Ka Intihan Leti Hai
Jo Bhawar Ko Chir Kar Nikalte Hai
Ye Duniya Phir Unko Salam Karti Hai



25.Apni jameen apna aakash paida kar,
Apne karmon se naya itihaas paida kar,
Mangne se manjil nahi milti ai dost,
Apne har kadam pe naya viashwas paida kar.



26.Most of the people never plan to fail,
but they fail to plan



27.A negative thinker see a difficulty in every opportunity.
A positive thinker see an opportunity in every new difficulty..



28.Jag me jab tu aaya tha,jag hasaa tu roya tha.
Karni kuch aisi kar ja, jag roye aur tu hasta ja.



29.Zindagi kaatne se behtar hai zindagi jina sikho,
Zindagi jeeni hai to mera yeh paigam likho
Duniya tumhare kadmo mein hogi
Bas mere dosto sikandar ki tarah sochna sikho]



30.Jo safar ikhtiyar karte hai,
Wahi manjilo ko par karte hai,
Bas ek bar chalne ka hausla rakho mere dost,
Aise musafiro ka to raaste bhi intejaar karte hai.





31.Q: What is SUCCESS ?
A: SUCCESS is when your signature becomes "AUTOGRAPH"









32.What is the seceret of success, i found in my room.
The Fan said = B COOL
The Roof said = AIM HIGH
The Window said = TAKE PAINS
The Clock said = EVERY MINUTE IS PRECIOUS
The mirror said =REFLECT BFORE U ACT
The Calender said = B UPTO DATE
The Door said = PUSH THE TROUBLES
The Lamp said = MAKE THE LIGHT UR FUTURE



HARD WORK is like STEPS,
LUCK is like LIFT.
LIFT may fail sometimes,
But STEPS will always get you to the TOP.



33.Bhagwaan ka diya kabhi "ALP" Nahi Hota,
Jo beech Me Tut Jaaye Wo "SANKALP" Nahi Hota.
Haar kO Laakshya Se Dur Hi Rakhna,
Kyunki Jeet Ka Koi "VIKALP" Nahi Hota.



34.ammannaooke aasmaan me sar uthakar toa dekho ,
Kabhi apni soch ko azmakar toa dekho ,
Badal jaayegi har taqdeer banane se pahele ,
Kabhi khud ko azmakar toa dekho



35.DON'T SAY YOU ARE NOT IMPORTENT ,
IT SIMPLY ISN'T TRUE,
THE FACT THAT YOU WERE BORN,
IS PROOF, GOD HAS A PLAN FOR YOU,
THE PATH MAY SEEM UNCLEAR RIGHT NOW,
BUT ONE DAY YOU WILL SEE,
THAT ALL THAT COME BEFORE,
WAS TRULLY MEANT TO BE,
GOD WROTE THE BOOK THAT IS LIFE,
THAT'S ALL YOU NEED TO KNOW,
EACH DAY THAT YOU ARE LIVING ,
WAS WRITTEN LONG AGO,
GOD ONLY WRITES BEST SELLERS,
SO BE PROUD OF WHO YOU ARE,
YOUR CHARACTER IS IMPORTENT, IN
THIS BOOK; YOU ARE THE "STAR"




                    BY GURU.

Wednesday, 29 June 2016

Heart Touching Hindi love story- मेरी अधूरी प्रेम कहानी



                            मेरी अधूरी प्रेम कहानी
                            www.facebook.com/Guru

Displaying 3.bmp

Displaying 3.bmp




वो दिन अभी भी याद आता है जब पापा से बहुत जिद करने के बाद 5 रूपए मांगे थे क्यूंकि क्लास में तुमने कहा था तुम्हे गोलगप्पे बहुत पसंद हैं...और मुझे तुम अच्छी लगती थीं...तुम्हारा और मेरा घर आजू बाजू था और रास्ते में 'कैलाश गोलगप्पे वाला' अपना ठेला लगाता था...घर जाने के दो रास्ते थे तुम दुसरे रास्ते जाती और मैं गोलगप्पे की दुकान वाले रास्ते...उस दिन बहुत खुश था...नेवी ब्लू रंग की स्कूल की पैंट की जेब में १ रुपये के पांच सिक्के खन खन करके खनक रहे थे और मैं खुद को बिल गेट्स समझ रहा था...शायद पांच रुपये मुझे पहली बार मिले थे और तुझे गोलगप्पे खिलाकर सरप्राइज भी तो देना था...
स्कूल की छुट्टी होने के बाद बड़ी हिम्मत जुटा कर तुमसे कहा- ज्योति, आज मेरे साथ मेरे रास्ते घर चलो ना? हांलाकि हम दोस्त थे पर इतने भी अच्छे नहीं कि तू मुझ पर ट्रस्ट कर लेती...'मैं नी आरी' तूने गुस्से से कहा...'प्लीज चलो ना तुम्हे कुछ सरप्राइज देना है'...मैंने बहुत अपेक्षा से कहा...ये सुन के तू और भड़क गयी और जाने लगी क्यूंकि क्लास में मेरी इमेज बैकैत और लोफर लड़कों की थी...









मैं जा ही रहा था तो तू आकर बोली- रुको मैं आउंगी पर तुम मुझसे 4 फीट दूर रहना....मैंने मुस्कुराते हुए कहा ठीक है...हम चलने लगे और मैं मन ही मन प्रफुल्लित हुए जा रहा ये सोचकर की तुझे तेरी मनपसंद चीज़ खिलाऊंगा और शायद इससे तेरे दिल के सागर में मेरे प्रति प्रेम की मछली गोते लगा ले...खैर गोलगप्पे की दुकान आई...मैं रुक गया...तूने जिज्ञासावस पूछा- रुके क्यूँ?
मैं- अरे! ज्योति तुम गोलगप्पे खाओगी ना इसलिए।
तू- अरे वाह!!!!!! जरुर खाऊँगी।
तेरी आँखों में चमक थी। और मेरी आत्मा को तृप्ति और अतुलनीय प्रसन्नता हो रही थी। तब १ रुपये के ३ गोलगप्पे आते थे।
मैं- कैलाश भैय्या ज़रा पांच के गोलगप्पे खिलवा दो।
कैलाश भैय्या- जी बाबू जी। (मुझे बुलाकर कान में) गरलफ्रंड हय का?
मैं(हँसते हुए)- ना ना भैया।आप भी
कैलाश भैय्या ने गोलगप्पे में पानी डालकर तुझे पकड़ाया ही था कि तू जोर से चिल्लाई- रवि...रवि
इतने में एक स्मार्ट सा लौंडा(शायद दुसरे स्कूल का) जिसके सामने मैं वो था जैसा शक्कर के सामने गुड लाल रंग की करिज्मा से हमारी तरफ आया और बाइक रोक के बोला- ज्योति मैं तुम्हारे स्कूल से ही आ रहा हूँ। चलो 'कहो ना प्यार है के दो टिकट करवाए हैं जल्दी बैठो'
'हाय ऋतिक रोशन!!!!' कहते हुए तू उछल पड़ी और गोलगप्पा जमीन में फेंकते हुए मुझसे बोली-सॉरी अंकित आज किसी के साथ मूवी जाना है, कभी और।


            www.facebook.com/Guru


और मैं समझ गया कि ये "किसी" कौन होगा।
ये कहते हुए तू बाइक में बैठ गई और उस लौंडे से चिपक गई, उसके सीने में अपने दोनों हाथ बांधे हुए।
तू आँखों से ओझल हुए जा रही थी और मुझे बस तेरी काली जुल्फें नज़र आ रही थी। उसी को देखता मेरे नेत्रों में कालिमा छा रही थी।
कैलाश भैय्या की भी आँखे भर आईं थी और मेरे दो नैना नीर बहा रहे थे।
कैलाश भैय्या- छोड़ो ना बाबू जी। ई लड़कियां होती ही ऐसी हैं। अईसा थोअड़े होअत है कि किसी के दिल को शीशे की तरह तोड़ दो।
ये कहकर उन्होंने कपड़ा उठाया जिससे वो पसीना पोछा करते थे और अपने आंसुओं को पोछने लगे। मैं भी रो पड़ा।
अभी 14 गोलगप्पे बचे थे और कैलाश भैय्या जिद कर रहे थे खाने की।

एक एक गोलगप्पा खाते खाते दिल फ्लैशबैक में जा रहा था।
दूसरा गोलगप्पा- तू सातवीं कक्षा में क्लास में नई नई आई थी आँखों में गाढ़ा काजल लगाकर और मेरी आगे वाली सीट में बैठ गई थी

तीसरा गोलगप्पा- तूने सातवीं कक्षा के एनुअल फंक्शन में 'अंखियों के झरोखे से' गाना गाया था।
चौथा गोलगप्पा- उसी दिन की रात मेरे नयनो में तेरी छवि बस गई थी।
पांचवा गोलगप्पा- आठवी कक्षा के पहले दिन मैडम ने तुझे मेरे साथ बिठा दिया था।
छठा गोलगप्पा- मैं बहुत खुश था। तेरे बोलों से हेड एंड शोल्डर्स शैम्पू की खुशबू आती और मैं रोज़ उस खुशबू में खो जाता। यही कारण था मैं आठवी की अर्धवार्षिक परीक्षा में अंडा लाया था। और मैडम ने मुझे हडकाया था।

सातवाँ गोलगप्पा- मैं फेल हो गया था तो मैडम ने तुझे होशियार लड़की के साथ बिठा दिया था।
आँठवा गोलगप्पा - मैं उदास हो गया था। और मैंने 3 दिन तक खाना नहीं खाया था।
नौवा गोलगप्पा- मैं रोज़ छुट्टी के बाद तेरे घर तक तेरा पीछा किया करता था।
दसवां गोलगप्पा - मैं रोज़ सुबह और शाम तेरे घर के चक्कर काटता था इस उम्मीद की शायद तू घर कइ बाहर एक झलक मात्र के लिए ही सही दिख जाए।
ग्यारहवां गोलगप्पा - तूने मुझे एक दिन डांट दिया था कि छुट्टी के बाद मेरा पीछा मत किया करो। और उस दिन मुझे बहुत बुरा लगा था, तबसे मैं दुसरे रास्ते से घर जाने लगा था।
बारहवां गोलगप्पा - हम नवीं कक्षा में पहुँच गए थे। दिवाली थी। कहो ना प्यार है के गाने रिलीज़ हो गए थे। मैं क्लास में बैठा नेत्रों में तेरी तस्वीर लिए 'क्यूँ चलती है पवन गुनगुनाते रहता था'


            www.facebook.com/Guru

तेरहवां गोलगप्पा - मैंने दिवाली के बाद तुझसे पूछा था हिम्मत जुटाकर कि क्या तुम्हारा कोई बॉय फ्रेंड है।तुमने कहा था- नहीं मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ।
उस रात मैं बहुत खुश था ये सोचकर की तू कभी तो जानेगी कि तेरे लिए मैं भले ही कुछ भी हूँ मगर मेरे लिए तू वो है जिसके लिए मैं सांस लेता हूँ।
चौदहवां गोलगप्पा - आज कहो ना पयार है रिलीज हुई है और मैं पापा से पांच रुपये मांगने की जिद कर रहा हूँ। यह भी प्लान बना रहा हूँ कि तुझसे आज दिल की बात कह दूंगा।
पन्द्रहवां और आखिरी गोलगप्पा - मेरे दिल टूट चूका था और मुहं में गोलगप्पे का पानी था और चेहरे में अश्कों का।
दोस्तों अगर आपको
ये Heart Touching Hindi love story- मेरी अधूरी प्रेम कहानी पसंद आई तो इसको जरूर शेयर करे । 


            www.facebook.com/Guru

Monday, 27 June 2016

Love word













Read More go on my page
https://www.facebook.com/Guru-636901826486645/

Sunday, 12 June 2016

A Love Story.



    
   Ek CHoti Si Love Story Heart Touching 
 

Ye Story Hai Ek Garib amir Or garib Ladki Ki.Amir Ladka Us Ladki Se Bahut Jaada Pyar Karta Tha Garib Ladki Bi Use Se Pyar Karti Thi. Par Ladke Ko Ye Pata Nahi HOta Ki WO Ladki Us ke Paise Ke LIye Us Se Pyar Karti Hai. Ladki Ke Bolne Se Phele Ladka Us Ko Har Chij Le Kar De Deta Tha. Ladka Us Ladki Ke Liye Apne Gar Se Bahut Se Kimsi Saman CHura Kar Us Ladki Ke LIye Bech Deta Hai.


Ek DIn Ladki Us Ladke Se Kheti Hai Agar tum Muj Se Sacha Pyar Karte ho To Ek DIn Mere Bina Rah Ke Dikhao.Ladka Maan Jaata Hai kEse Tese Dusra DIn Jab HUwa To Ladka Ladki Ke Pass gaya .Tab ladki Ne Kaha Hmm Sach Me Pyar Karte ho Thik Hai Ek Or Exam Lungi Tumhara.Agar Us me Paas Ho Gaye to ME tum Ko Bahut Badha Gift Dungi Or TUm Se Saadhi Kar Lungi.



Ladke Ne Kaha Muje Kya Karna hogaa Batao Tab Ladki Boli TUm 10 DIn Baadh Mere Gar Pe Aana Me Tum Se Tab Saadhi Kar Lungi.Ladke Ke Aakho Me Aasu Aa Gaye WO Apna Pyar Saabit Karne Ke LIye Us Se Door Rhena Padh Raha Hai. Us Ki Aakhe Nam Thi Or Wo CHala Gaya Waha Se.



Jab 10 Din Pure Huye To Ladka KHus Ho Ke Ladki Ke Gar Pe Gaya To Waha Pe Dekhta Hai Ki Kisi Ki Saadhi hO Rahi Hai.Wo Ladki Ke Gar Ke Andar Jaata Hai TO Dekhta Hai Ki Ladki Kisi Or Se Saadhi Kar Rahi Hai.Kaato Ka Mala Lade Ko Phena Ke Or Fhoolo Ka Mala Phene HUye Has Rahi Thi.Jab Ladke Ne Ladki Se Kaha Mere Saat Yesa Kyu Kiya To Ladki Boli Time Pass Kar Rhi Thi Yaar.Pyar Wyar Kuch Nahi Hota Hai TUm DUniya Ke Bekuf Ho Jo Mere Majak KO Sacha Pyar Samje.Ladke Ne Bas Itna Kaha… ” Ho MUbarak Tuje.. Gar Jala Mera Kya Bigra Tera..Jala Ke Muje TUje To Pyar Mil Gaya”..

दिल्ली : गरीबों के मुफ्त इलाज से इंकार करने पर पांच निजी अस्पतालों पर 600 करोड़ का जुर्माना





नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने पांच निजी अस्पतालों को गरीबों का इलाज करने से इंकार करने पर 600 करोड़ रुपए का ‘अवांछित मुनाफा’ जमा करने का निर्देश दिया है। इन पांच अस्पतालों में फोर्टिस एस्कार्ट हार्ट इंस्टीट्यूट और मैक्स सुपर स्पेशिएलटी अस्पताल (साकेत) शामिल हैं। इन अस्पतालों को गरीबों का इलाज करने की शर्त पर जमीन लीज़ पर आवंटित की गयी थी।

स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त निदेशक (EWS) डॉ. हेमप्रकाश ने बताया कि मैक्स (साकेत), फोर्टिस एस्कार्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट, शांति मुकुंद अस्पताल, धर्मशिला कैंसर अस्पताल और पुष्पावती सिंघानिया रिसर्च इंस्टीट्यूट को इस शर्त पर 1960 और 1990 के बीच रियायती दरों पर जमीन दी गयी थी कि वे गरीबों का मुफ्त इलाज करेंगे।

शर्तों का पालन नहीं किया

प्रकाश ने कहा ‘इन पांचों अस्पतालों ने शर्तों का पालन नहीं किया है। पहले, हमने दिसंबर 2015 में इन अस्पतालों को नोटिस भेजकर उनसे इस बात पर सफाई मांगी थी कि वे गरीबों का इलाज करने में क्यों विफल रहे और उन पर जुर्माना क्यों न लगाया जाए। लेकिन उनमें से किसी ने भी संतोषजनक जवाब नहीं दिया। इसलिए उनके खिलाफ कार्यवाही की गई है।’

उन्होंने कहा ‘यह जुर्माना साल 2007 में एक जनहित याचिका पर उच्च न्यायालय के फैसले के आधार पर लगाया गया है। याचिका में मुफ्त इलाज के प्रावधान को लागू करने और दोषी अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की गयी थी। जुर्माना राशि उसी के हिसाब से तय की गई है।’ इन अस्पतालों को नौ जुलाई तक जुर्माना राशि का भुगतान करना होगा। बता दें कि दिल्ली में 43 अस्पतालों को इस शर्त पर रियायती दरों पर जमीन दी गयी थी कि वे गरीब मरीजों के लिए 10 फीसदी बेड और बाह्य रोगी विभाग में 25 फीसदी स्थान मुफ्त इलाज के लिए रखेंगे।

Saturday, 11 June 2016

नितीश कुमार या केजीरवाल देश के अगले प्रधानमंत्री होंगे : शत्रुधन सिन्हा The country's next prime minister Nitish Kumar or Kejirwal : Strudn Sinha

nitish kumar will become next pm



बॉलीवुड में शॉट गन के नाम से महशूर अभिनेता और पटना साहिब के बीजेपी सांसद शत्रुधन सिन्हा आजकल पार्टी के खिलाफ बगावत करने के पुरे मूड में है जिस तरह बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी का विरोध कर बीजेपी से नाता तोड़ लिया था ठीक उसी तर्ज पर अब बिहारी बाबू शत्रुधन सिन्हा चल रहे है पहले तो शत्रुधन का बीजेपी विरोध बिहार तक सिमित था किन्तु अब ये विरोधाभास दिल्ली तक पहुंच गई है
हाल ही में पार्टी का विरोध करने के कारण बीजेपी ने बिहार राज्य के दरभंगा जिले के सांसद कीर्ति आजाद को पार्टी से निष्काषित कर दिया था अब बगाबत की बू शत्रुध्न सिन्हा से आ रही है क्योंकि शत्रुधन सिन्हा पार्टी की प्रशंसा कम और विरोधी की प्रशंसा अधिक करते है। शत्रुधन सिन्हा की बगावत तो उस समय निखर के सामने आई जब शॉट गन महागठबंधन की जीत पर नितीश कुमार को बधाई देने पटना में अने मार्ग स्थित नितीश के आवास पर पहुंच गये और पत्रकारों की प्रतिक्रिया के बाद शत्रुधन सिन्हा ने इसे राज्य स्तर विकास मुहीम की संज्ञा दे डाली।

मैं बनूंगा उत्तर प्रदेश का अगला मुख़्यमंत्री : राहुल गांधी
अब जबकि बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार भी प्रधानमंत्री बनने के सपने को दिल में पाल रहे है तो शत्रु भी उनको समर्थन देने के मूड में है और यदि वक्त के साथ बीजेपी पार्टी शत्रु पर लगाम नहीं सकी तो आने वाले दिनों में शत्रु यदि नितीश के साथ हो जाये तो इसमें कोई आश्चर्य नहीं होगा।

आपको बता दें कि शत्रु की बगावत को भांपते हुए केजरीवाल ने शत्रु को दिल्ली में एक कार्यक्रम में शिरकत होने का आमंत्रण भेजा था जिसे बीजेपी सांसद शत्रुधन सिन्हा ने सहजता से स्वीकार कर लिया और इसके लिए शत्रुधन सिन्हा ने पार्टी के आलाकमान से कोई इजाजत भी नहीं लिया। इसी क्रम में आज शत्रुधन सिन्हा आप सरकार के साथ एक स्टेज को साझा किया इस दौरान शत्रुधन सिन्हा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को गले भी लगाया। इस कार्यक्रम में 2000 से अधिक की संख्या में दर्शक मौजूद थे जिसे सम्बोधित करते हुये शॉट गन ने कहा कि मैं अच्छा हूँ या बुरा ये मैं नहीं जानता हूँ किन्तु मैं ये कहना चाहता हूँ कि मैं आज भी आपका हूँ और भविष्य में भी आपका ही रहूंगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजीरवाल मेरे छोटे भाई जैसा है या आप कह सकते है कि मेरे मित्र है। जय हिन्द कहकर शॉट गन ने भाषण को को समाप्त किया।
आज के कार्यक्रम में दिल्ली सरकार के मंत्रिमंडल सहित कई गणमान्य लोग भी उपस्थित थे। शॉट गन के बदलते तेवर से तो ऐसा ही लग रहा है कि शॉट गन 2019 तक बीजेपी से जुड़ने की मूड में नहीं है। केजरीवाल के इस शकुनी चाल से बीजेपी कितना सतर्क होती है ये तो आने वाले दिनों में दिख जाएगा किन्तु एक बात तो तय है कि यदि बीजेपी पार्टी में पल रहे विरोधी शक्ति को जल्द बाहर करने में कामयाब नहीं होती है तो बीजेपी को इसके गम्भीर परिणाम भी भुगतने होंगे।


The country's next prime minister Nitish Kumar or Kejirwal : Strudn Sinha
Mahsur shot gun called Bollywood actor and BJP MP from Patna Sahib Strudn Sinha Nowadays entire mood of rebellion against the party in Bihar Chief Minister Nitish Kumar is the 2014 election against Modi in the BJP broke away from Bihari Babu Strudn Sinha was now running as done before so Strudn Bihar BJP protest was limited to Delhi, but now it has risen to contradictions


I will be like the next Mukhyamntri UP : Rahul Gandhi



Bihar Chief Minister Nitish Kumar today dream of becoming prime minister is sailing in the heart of the enemy and their support is in the mood and the moment with the BJP if the party could not contain the enemy coming days Nitish happen with the enemy if it would not be surprised .

Let me tell you that the enemy Sensing rebellion in Delhi , Kejriwal enemy had sent an invitation to participate in a program that the BJP MP Strudn Sinha Sinha readily accepted and the party high command of Strudn not allowed took. Strudn Sinha today in order to share a stage with the government during the neck Strudel Sin ha Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal slapped . The event was attended by over 2000 in the number of viewers who are addressing said I 'm good shot gun Or bad, here I do not know, but I want to say that I am today and in the future you will always be you . Delhi CM Kejirwal like my little brother , or you could say that my friend. Jai Hind shot gun he ended his speech .

Today 's event was attended by dignitaries including Delhi cabinet . The changing attitude of the shot gun that looks like a gun shot is not in the mood to join the BJP by 2019 .Shakunee Kejriwal's party trick is how meticulous they will do so in the coming days , but one thing is sure that if BJP party opposing force at the moment is not possible to exclude the BJP managed it will face serious consequences .





Friday, 10 June 2016

Ek Pagal C Ladki A Small Poem on Love By Guru

10626529_483934878474461_4417592033310953881_n




Ek Pagli C Ladki Hai Jo Mujhpe Marti Hai…

Meri Khushi Ke Liye Har Namumkin Koshish Karti Hai…

Waise To Masoom Si Hai Phool Ki Tarah…

Magar Jab Baat Mujhpe Aajaye To

KisiSe Na Darti Hai…

Ek Pagli C Ladki Hai Jo Mujhpe Marti Hai…

Meri Har Pasand Na Pasand Ka Kitna Khyal Karti Hai…

Khud Se Jyada Wo Mera Khyal Karti Hai…

Khud Ki Badi Se Badi Chhot Use Mamuli C Lagti Hai…

Magar Meri Halki C Khroch Par Wo Na Jane Kitna Roti Hai…
Neend Use Had Se Jyada Pyari Hai…
Magar Mere Liye Sari Raat Na Soti Hai…
Itni Chhoti C Umar Me Wo Kitne Kamal Karti Hai…
Ek Pagli C Ladki Hai Jo Mujhpe Marti Hai…
Mere Siva Kisi Ki Na Baat Sunti Hai…
Har Waqt Akele Baithi Mujhse Milne Ke Khwab Bunti Hai…
Sabko Na Pasand Hu Mai
Magar Fir Bhi Mujhe Kitna Pasand Karti Hai…
Ek Pagli C Ladki Hai Jo Mujhpe Marti Hai…

Tuesday, 7 June 2016

सीएम केजरीवाल बोले - दिल्ली में जंगलराज, पीएम मोदी और एलजी पूरी तरह विफल CM Kejriwal said - of wilderness in Delhi, Modi and LG complete failure

सीएम केजरीवाल बोले - दिल्ली में जंगलराज, पीएम मोदी और एलजी पूरी तरह विफल


दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को आरोप लगाया कि राष्ट्रीय राजधानी में पूरी तरह जंगल राज है। उन्होंने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उपराज्यपाल नजीब जंग को जिम्मेदार ठहराया। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता केजरीवाल ने एक ट्वीट में कहा, "दिल्ली में पूरी तरह जंगल राज। उपराज्यपाल और मोदी जी बुरी तरह विफल रहे। यहां कानून एवं व्यवस्था की गिरती हालत को नियंत्रित करने के लिए उन्होंने क्या किया?"


उनकी यह प्रतिक्रिया दिल्ली के ब्रह्मपुरी इलाके में एक 50 वर्षीया महिला तथा उनकी 19 व नौ साल की दो बेटियों की उनके घर में हत्या किए जाने के बाद आई है। एक अन्य घटना में दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में 11 साल के एक लड़के ने कथित तौर पर चार साल की एक बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। यहां उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के अधीन है, न कि दिल्ली सरकार के अधीन।


CM Kejriwal said - of wilderness in Delhi, Modi and LG complete failure

Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal on Monday alleged that the capital is complete jungle raj. He blamed the Prime Minister and the Lieutenant Governor Najeeb Jung. Aam Aadmi Party (AAP) leader Arvind Kejriwal said in a tweet, "complete jungle raj in Delhi. Lt. Governor and Modi failed miserably. The deteriorating situation of law and order to control what they did?"

His reaction to a 50-year-old girl in Delhi Bramhapuri area and their two daughters, aged 19 and nine have come after being murdered in their home. In another incident, 11-year-old boy in Delhi's Mangolpuri area four-year-old girl allegedly raped. The Delhi Police is under the central government, not subject to government.

Sunday, 5 June 2016

कौन होगा पंजाब का CM जाने अभी click here



केजरीवाल नहीं होंगे पंजाब में AAP के CM कैंडिडेटः आशुतोष


आम आदमी पार्टी ने रविवार को उन अटकलों को खारिज कर दिया कि उसके राष्ट्रीय संयोजक अरविन्द केजरीवाल को पंजाब में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर पेश किया जा सकता है। आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता आशुतोष ने बताया, 'यह निराधार है। यह सब अफवाह है। इसमें कोई तथ्य नहीं है। केजरीवाल दिल्ली सरकार नहीं छोड़ेंगे।'



उन्होंने कहा कि पार्टी ने पंजाब विधानसभा चुनावों के लिए अभी तक अपने मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर कोई फैसला नहीं किया है। उन्होंने कहा कि पार्टी पहले यह फैसला करेगी कि उस पद के लिए किसी को पेश किया जाए या नहीं। आशुतोष ने कहा, 'हमने यह फैसला नहीं किया है कि मुख्यमंत्री पद के लिए कौन उम्मीदवार होगा। हमारा मानना है कि भविष्य में लोकतांत्रिक प्रक्रिया से नेता उभरेंगे। हमारे पास कई योग्य नेता हैं और उनमें से कोई भी जिम्मेदारी निभा सकते हैं।'


आप नेता ने कहा कि सही वक्त पर, लोकतांत्रिक प्रक्रिया से नेता उभरेंगे। हर कोई यह सवाल कर रहा है कि पंजाब या गोवा में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार कौन होगा। इसके बारे में लोकतंत्र को फैसला करने दीजिए। उन्होंने कहा, 'किसी चेहरे के साथ या बिना किसी चेहरा के चुनाव में उतरा जाए, इस बारे में पार्टी को फैसला करना है। यह रणनीति की बात है कि हम मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के साथ आगे बढ़ें या नहीं।'

Thursday, 2 June 2016

Arvind Kejriwal in Kapil Sharma show ‘द कपिल शर्मा शो’ में मेहमान होंगे केजरीवाल !

ArvindKejriwal-KapilSharma

अरविन्द केजरीवाल जल्द ही कपिल शर्मा के शो ‘द कपिल शर्मा शो ‘ में नज़र आ सकते है | सूत्रों द्वारा प्राप्त जानकारी अनुसार दिल्ली के सीएम एवं आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल को कपिल शर्मा अपने शो में आने का निमंत्रण दे सकते है | विदित हो की कपिल शर्मा द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से जनता से जवाब मांगा है की शो में कौन कौन से शख्सियत को मेहमान के रूप में देखना चाहते है उसके लिए बकायदे नाम मांगा गया है | जहां अधिक संख्या में लोगो ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल को शो में देखना चाह रहे है वही इसी कड़ी में जनता आमिर खान को भी शो में देखना चाह रही है |

केजरीवाल के काम की लोकप्रियता दिख रही है : नाना पाटेकर

Nana_Patekar

अभिनेता नाना पाटेकर ने जहा सभी की बोलती बन्द करने वालो में एक है वही राजनीति में केजरीवाल भ्रष्टाचारियो के लिए काल बने हुए है |नाना पाटेकर ने एक अखबार के सवाल जवाब पर कहा की मुझे राजनीति जीवन भाता नही लेकिन आज की राजनीति पहले की राजनीति में बहुत अन्तर आया है |देश में अच्छे राजनेताओ के एक सवाल पर नाना ने कहा की हर पार्टी में कोई न कोई एक अच्छा राजनेता होता है |वर्तमान समय में केजरीवाल का दिल्ली में किया जा रहा काम एक अलग हट के किया जा रहा विकास रूपी कार्य प्रसंशनीय योग्य है |विदित हो की अभी हाल ही में आत्महत्या करने वाले किसानो के परिजनों को आर्थिक सहायता करने वाले नाना पाटेकर ने कहा की किसान आत्महत्या ना करे मैं उनकी आर्थिक मदद करूँगा अपने हौसलों को टूटने न दे |राजनीति में आने के सवाल पर अभिनेता नाना पाटेकर ने कहा की समय पर सब ठीक होता है |

Wednesday, 1 June 2016

मशहूर कॉमेडियन एक्टर रज्जाक खान को दिल का दौरा पड़ने से निधन

मशहूर कॉमेडियन एक्टर रज्जाक खान का दिल का दौरा पड़ने से निधन

बॉलीवुड के मशहूर कॉमेडियन एक्टर रजाक खान का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है. उन्होंने बुधवार दोपहर आखिरी सांस ली. रजाक खान ने अपनी बेमिसाल अदाकारी और कॉमेडी के नए तर्ज़ और अंदाज़ से बॉलीवुड की अनेक फिल्मों में चार चांद लगाए. रजाक खान ने हैलो ब्रदर, हंगामा और हेरा फेरी सहित कई सुपरहिट फिल्मों में एक बेहतरीन कॉमेडियन की अमिट छाप छोड़ी.
बॉलीवुड उन्हें एक बेहतरीन अभिनेता, शानदार कॉमेडियन के तौर पर जानता हैं, लेकिन उन्हें जानने वाले गोल्डेन भाई के नाम से जानते हैं.
रज्जाक खान के दोस्त एक्टर शहजाद खान ने सोशल मीडिया पर उनकी मौत की खबर दी. रज्जाक खान की एक फोटो शेयर करते हुए शहजाद खान ने लिखा, “कार्डियक अरेस्ट के चलते मैंने अपने बड़े भाई रज्जाक को खो दिया है. उनके लिए प्रार्थना करें.”
कौन थे रज्जाक खान?
साल 1993 से फिल्मी दुनिया में कदम रखने वाले रज्जाक भाई अपने मरते दम तक फिल्मों में सक्रिय रहे.  साल 1999 में आई फिल्म बादशाह में अपने रोल मानिकचंद से सुर्खियों में आए. रज्जाक खान ने 1993 में फिल्म ‘रूप की रानी चोरों का राजा’ से बॉलीवुड में कदम रखा था. ये फिल्म दर्शकों ने काफी पसंद की थी जिसमें श्रीदेवी और अनिल कपूर मुख्य भूमिका में थे.

Tuesday, 31 May 2016

बता दो आज ?



I Stand With Arvind and You.................?
comment fast

Monday, 30 May 2016

सिंगर अभिजीत भट्टाचार्य ने नसीरुद्दीन शाह को बताया पाक पुजारी

Source


बॉलीवुड के मशहूर गायक अभिजीत भट्टाचार्य को तो सब जानते ही है l आजकल वो हर ज्वलंत मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए नजर आरहे है l ये वही अभिजीत है जिन्होंने बॉलीवुड में रहते हुए असहिष्णुता पर अपनी बात बेबाकी से रखी थी l


यहाँ बात हो रही है नसीरुद्दीन शाह के उस बयान पर जो उन्होंने अनुपम खेर को लेके दिया है l नसीरूदीन के बयान को लेकर अभिजीत ने उनपर हमला बोल दिया है और साथ ही आमिर खान को भी अपने बयान में लपेट लिया l अनुुपम खेर और नसीरुद्दीन शाह के बीच वार-पलटवार तो सबने देखा किन्तु शाह पर नया वार गायक अभिजीत भट्टाचार्य ने शाह पर


बेहद तल्ख टिप्पणी करके किया है l अपने ट्वीटर अकाउंट पर अभिजीत ने नसीरुद्दीन शाह के उस बयान को कोट करते हुए लिखा जिसमे शाह ने खेर पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि अनुपम खेर कभी कश्मीर गए नहीं लेकिन कश्मीरी पण्डितों का मुद्दा उठाते हैl उन्होने लिखा कि “सब कुछ पाया हमने फिर भी छोड़ी न गद्दारी, मानों या न मानों हम तो हैं पाक के पुजारी” आपकों बता दें इस ट्वीट के साथ अभिजीत ने शाह की एक फोटो भी लगाई हैं abhi

Saturday, 28 May 2016

साथियो ‪#‎देश_बदल_रहा_है AAP


एबीपी न्यूज़ में कार्यरत एक पत्रकार मित्र ने मुझे ये फोटो भेजी है, बिकाऊ मीडिया का दोगलापन देख कर बहुत दुःख हुआ। मोदी की बिकाऊ मीडिया आपको ये हकीकत कभी नहीं दिखाएगी।
साथियो ‪#‎देश_बदल_रहा_है‬, अगर आज अगर देश में चुनाव हो जाए तो केंद्र में अरविन्द जी के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी की पूर्ण बहुमत वाली सरकार सत्ता में आ जाए।
मैं आप सभी फैन्स से अनुरोध करता हु की इस पोस्ट को देश के आम आदमी तक पहुचाए। इस पोस्ट को शेयर करके एबीपी न्यूज़ और केंद्र की फेंकू सरकार के मुह पर तमाचा जड़े। - कपिल मिश्रा

Sunday, 22 May 2016

क्या आपने कभी सोचा है कि औरतें मांग क्यूं भरती हैं..?

1 चुटकी सिंदूर की कीमत तुम क्या जानो ...? 
क्या आपने कभी सोचा है कि औरतें मांग क्यूं भरती हैं..?
.
.
.
.
.
नहीं पता न...
.
.
.

मैं बताता हूँ।
औरतें मांग इसलिए भरती हैं ताकि लोगों को पता चल जाए कि इस प्लाट की रजिस्ट्री हो चुकी है।
पुरुष कभी मांग नहीं भरते क्योंकि ये तो गोचर भूमि है,
इसकी रजिस्ट्री नही हो सकती।
शादी के समय आपने देखा होगा वरमाला का समय होता है तब दुल्हन के साथ तीन चार और लडकियां आती हैं, उसका क्या तात्पर्य है?
उसका तात्पर्य है कि जिस प्लाट की रजिस्ट्री हो रही होती है उसके नक्शे में आस-पास खाली प्लाट दिखाने पड़ते हैं।
इसमे भी एक समस्या है कि कुछ की रजिस्ट्री हो चुकी होती है और बाकियों पर अवैध कब्जा चल रहा होता है।
😜😝😭😂😳

Saturday, 21 May 2016

जुमलो का 2 साल तक का सफर

..
. 


अच्छे दिनों का ये जुमला दरअसल इतना घिस चुका है कि इसे शीर्षक के रूप में इस्तेमाल करते हुए भी थोड़ा उदासी का भाव आ जाता है। पर क्या करें पिछले साल की तपती गर्मी में तपा और उछला ये नारा अब तक गरम बना हुआ है। ‘अच्छे दिन आने वाले हैं, हम मोदी जी को लाने वाले हैं’ ये नारा गूंजा ही इतनी जोर-शोर से था कि आकलन भी इसी को आधार बनाकर होगा। आपने कहा-अबकी बार मोदी सरकार, जनता ने कर दिया। आपने कहा कि मोदी सरकार आने से अच्छे दिन भी आएंगे। सो अब आकलन का आधार तो ये अच्छे दिन बनेंगे ही।
अच्छे दिनों पर सीधे और लगातार प्रहार इसलिए भी होते रहेंगे क्योंकि ये बहुत ही विषयनिष्ठ मामला है यानि ‘सब्जेक्टिव’ है। इसके कोई तय पैमाने नहीं हैं। अच्छे दिन कोई ऐसी स्थिति तो है नहीं कि आप किसी पैथोलॉजी लैब में जाकर जांच करा लें और पता लगा लें कि अच्छे दिन आए कि नहीं आए? ना केवल समाज के हर वर्ग के लिए बल्कि हर व्यक्ति के लिए अच्छे दिन के मायने अलग-अलग हैं। ये भी बहुत संभव है कि आप पूछने निकलो तो लोग ठीक से ये ना बता पाएं कि उनके लिए अच्छे दिन का मतलब क्या है। ये भी होगा कि लोग आज कुछ बोलेंगे कल कुछ और। सो अच्छे दिन को लेकर ये बवाल तो मचा ही रहेगा।
बाहरहाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी अपनी सरकार के एक साल पूर्ण होने पर मथुरा रैली में अपने एक घंटे के धाराप्रवाह भाषण में इसी नारे के साथ ही अपना आकलन किया है। अलग ये था कि उन्होंने बजाय ये कहने के कि अच्छे दिन आ गए हैं ये कहा कि बुरे दिन चले गए हैं। निश्चित ही अगर अच्छे दिन आ जाएंगे तो बुरे दिन चले ही जाना चाहिए। पर क्या सच में बुरे दिन चले गए हैं? और क्या सच में समूचे भारत के लिए एक साथ बुरे दिनों का चले जाना और अच्छे दिनों का आ जाना संभव है? क्या पूरे के पूरे 125 करोड़ लोगों के लिए अच्छे दिन लाए जा सकेंगे, वो भी इतनी जल्दी? मोदी जी के बाकी तमाम नारों जैसे स्वच्छता अभियान या डिजिटल इंडिया का तो फिर भी वस्तुनिष्ठ आकलन हो सकता है पर इस अच्छे दिन के लिए तो वर्गावार, व्यक्तिवार आकलन गंभीर मसला हो सकता है।
हम किसी बड़े दार्शनिक सिद्धांत या दृष्टांत का हवाला ना भी दें तो भी रोटी, कपड़ा और मकान को इंसानी जरूरत माना गया है। आज के समय में बुनियादी जरूरतें इससे भी ऊपर जा चुकी हैं पर ये तीन तो बनी हुई हैं और सर्वमान्य हैं। अर्थव्यवस्था के पेचीदा आंकड़ों में पड़े बगैर हम बहुत संक्षेप में ही इनको देख लें –
रोटी: दुष्यंत कुमार जी ने कहा था–
भूख है तो सब्र कर, रोटी नहीं तो क्या हुआ
आजकल दिल्ली में है ज़ेर-ए-बहस ये मुद्दआ
हालांकि इसके बर-अक्स ये भी ठीक नहीं कि हम फुटपाथ पर लेटे एक भूखे गरीब को पूरे देश का प्रतिनिधि चेहरा मान लें और हाय कलाप करें। जो लोग मेहनत कर के कमा रहे हैं वो खरीद के रोटी भी खा रहे हैं। कैसे और किस कीमत पर ये जरूर लंबी बहस का मसला है।
कोई पांच सितारा होटल में दो लोगों के लिए दस हजार रुपये का बिल चुका रहा है और कोई 20 रुपये में वड़ा पाव खा रहा है। ठीक है जिसके पास है वो खर्च कर रहा है। पर आकलन इस आधार पर होगा कि घर में भोजन की थाली के क्या हाल हैं। दाल फिर 100 रुपये किलो है और सब्जियां 40-50 रुपये किलो से ऊपर। अगर आपको खुद रोज हरी सब्जी खरीदने से पहले सोचना पड़ रहा है तो बहुत अच्छे दिन तो नहीं हैं।
रोटी को लेकर एक और अहम मुद्दा ये है कि अन्न उगाने वाला किसान और उसे ग्रहण करने वाला आम आदमी दोनों ही इसको लेकर दुखी हैं। सारे नहीं, पर बहुत सारे। जैसा कि इकबाल कह गए –
जिस खेत से दहकां को मयस्सर न हो रोटी
उस खेत के हर गोशा-ए-गंदुम को जला दो
(दहकां- किसान, गोशा-ए-गंदुम – गेहूं की बाली)
कपड़ा: तन तो हर कोई ढंक ही लेता है। कोई चीथड़े से कोई लुई फिलिप से। पर हां जिसे अच्छे कपड़े पहनने की आस है और वो शोरूम के बाहर टकटकी लगाए खड़ा है तो फिर उसे अच्छे दिनों का इंतजार करना पड़ेगा। बात फिर वही है कि भले ही सारा हिंदुस्तान नंगा नहीं घूम रहा पर वो तन ढंकने के लिए जो जतन कर रहा है उसमें तो ‘चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन’..... और क्या कहिए?
 मकान: ये बहुत गंभीर और पेचीदा मसला है। यहां बहुत हताशा और निराशा है। खुद के लिए एक अच्छा मकान अगर आज से 15 साल पहले पहुंच से बाहर था तो आज भी है। जमीन के दाम भी आसमान छू रहे हैं और मकान के भी। अगर तनख्वाह दुगुनी हुई है तो घर और जमीन के दाम चौगुने। तो आबुदाना ढूंढ़ने की कवायद जस की तस है। नए जमाने के जमींदार घोड़े पर बैठकर हंटर लेकर नहीं आते, वो तो जमीन और घर का सपना देखने वालों को लूटते चले जाते हैं। मद्दीवाडा है तो वो बेचने वाले के लिए। प्रॉपर्टी के कारोबारी के लिए। आम आदमी के लिए घर तो सपना ही है। घर इतने भयानक महंगे हो गए हैं और ऐसी-ऐसी कारीगरी हुई है जमीन को लेकर कि यहां तो खैर सबकुछ समेटा ही नहीं जा सकता। पर किसी के पास चार मकान और दो फ्लैट हैं और कहीं जिंदगी किराये के मकान में कट रही है।
इसके अलावा किसी भी समाज की रीढ़ मानी जाने वाली दो और बुनियादी जरूरतों को देख लेते हैं। ये हैं –शिक्षा और स्वास्थ्य। इन दोनों ही मामलों में पिछली सरकारें ही नहीं एक देश के रूप में भारत भी बुरी तरह विफल हुआ है। शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाएं दोनों ही इतने महंगे हो गए हैं कि उच्च वर्ग के भी पसीने छूट जाते हैं। आम आदमी की तो बिसात ही क्या? ऐसा लगता है कि शिक्षा और स्वास्थ्य दोनों ही मामलों में जनता को पैसे के भूखे भेड़ियों के सामने छोड़ दिया गया हो। जितना लूट सकते हो लूट लो।
शिक्षा: अच्छे निजी स्कूल में बच्चों को पढ़ाना मजबूरी है क्योंकि अच्छे सरकारी स्कूल हैं नहीं। निजी स्कूल जो फीस बोलें वो दो और सहो। यहां पाठ्यक्रम की बात तो हम कर ही नहीं रहे, क्या हमारी शिक्षा हमें ज्ञान भी दे पा रही है? क्या डिग्री सचमुच प्रतिभा का पैमाना है? ये सब सवाल अलग बहस और अलग आलेख का मुद्दा होंगे पर क्या हम बच्चों को स्कूल भेज रहे हैं या स्कूल के नाम पर खुल गई दुकानों में जहां सब बस पैसे के लिए है और बिकाऊ है। फिर वही बात, सारे खराब नहीं हैं, पर बहुत सारे खराब हैं। अपवाद हैं। पर अफसोस ये ही है कि अच्छे स्कूल अपवाद हैं, बुरे नहीं। और जिस समाज में अच्छाई अपवाद के रूप में पाई जाती हो और बुराई बहुतायत में मिलती हो, वो समाज कैसे अच्छे दिनों का नारा बुलंद कर सकता है?
स्वास्थ्य: किसी भी ठीक-ठाक अस्पताल में भर्ती हो जाइए। इलाज होगा कि नहीं ये बाद में लेकिन बिल तगड़ा आएगा। बीमा है तो और भी तगड़ा। उसके बाद भी सही इलाज मिलेगा कि नहीं, कोई गारंटी नहीं है। ये ठीक है कि चिकित्सा शिक्षा महंगी है। उपकरण महंगे हैं। सुविधा उपलब्ध करवाने में खर्च होता है। पर खर्च कर के भी सुविधा मिले तो? भरोसा तो हो कि जबरन जांच या ऑपरेशन नहीं हो रहे। इलाज बिल्कुल ठीक मिलेगा। खर्च को कम करने के लिए क्या हो रहा है? इन खर्चों पर कोई नियमन है? फिर वही, यहां भी अच्छाई है पर अपवादस्वरूप....। ज़्यादा है तो लूट लेने की लालसा।
ये भी हमको ईमानदारी से स्वीकारना होगा कि ये जो समस्याएं हैं और जो क्षरण है ये कई सालों में आया है। इसके होने के लिए ये सरकार जिम्मेदार नहीं है, पर इसे सुधार नहीं पाई या उस दिशा में कदम भी नहीं उठा पाई तो फिर इसे अच्छे दिनों का नारा बुलंद नहीं करने देंगे। इस सरकार से ये उम्मीद करना कि ये यकायक ठीक हो जाएगा, बेईमानी होगी। पर इस दिशा में सोच और काम नहीं होगा तो अच्छे दिन बस जुमले में ही रह जाएंगे। ऐसे ही और मोर्चों की पड़ताल भी होगी पर ये वो पांच बुनियादी मोर्चे हैं जिससे हर आदमी को हर रोज जूझना है।


इंसान ?

कोई हिन्दू कोई मुस्लिम    
          कोई ईसाई है
सब ने इंसान न बनने की
           क़सम खाई है...

Friday, 20 May 2016

Today CBSE 12th Result at 12:00 AM


Cbse.nic.in CBSE Board Class 12th XII Result 2016: Cbse results.nic.in 12th XII Board Exam Results 2016 to be announced today on May 21

ताऊ हैं .............


Wednesday, 18 May 2016

"जा सिमरन, कर स्वच्छ भारत

"बाऊजी मुझे स्वच्छ भारत का हिस्सा बनना है" "जा सिमरन, हटा ले सारा गंदगी"
"बाऊजी मुझे स्वच्छ भारत का हिस्सा बनना है"
"जा सिमरन, हटा ले सारा गंदगी"

केजरीवाल जी ने क्या बोला जो BREAKING NEWS बन गई

                                   केजरीवाल जी ने क्या बोला जो BREAKING NEWS बन गई 
दिल्‍ली: पूर्ण राज्‍य बनाने में हमारा सभी दल सहयोग करेंगे - केजरीवाल

Tuesday, 17 May 2016

MCD उपचुनाव : 10 साल से जमी बैठी BJP को AAP का करारा जवाब...

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) के 13 वार्डों में हुए उपचुनावों के नतीजे आ चुके हैं. इस चुनाव में आम आदमी पार्टी ने 5 सीटों पर जीत हासिल कर बीजेपी को करारा जवाब दिया है.
वहीं कांग्रेस ने भी 4 सीटें जीतकर अच्छी वापसी की है. दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी के लिए इस चुनाव को एक ‘टेस्ट’ के तौर पर देखा जा रहा था, क्योंकि भारतीय जनता पार्टी बीते 10 साल से लगातार एमसीडी पर काबिज रही है. लेकिन इस चुनाव में बीजेपी के खाते में महज 3 सीटें आईं.

Friday, 13 May 2016

फर्जी डिग्री


श्रीकृष्ण - उठो पार्थ, युद्ध करो
अर्जुन - मैं युद्ध नही कर सकता प्रभु
श्रीकृष्ण - क्यों
अर्जुन - केजरीवाल ने कहा है कि मेरी धनुर्विद्या की डिग्री फर्जी है।। ;-)